पुरषों में वीर्य धातु तथा महिलाओं में रक्त को बढ़ाने के लिए सबसे सरल उपाय!

आजकल की गलत जीवन शैली के कारण मौजूदा समय के सभी लोग अक्सर ही खून की कमी तथा कमज़ोरी से ग्रस्त हैं। आज कल पुरुषों में वीर्य धातु का रोग काफी विशाल परेशानी बनती जा रही है। बहुत सी महिलाएं खून की कमी से जूझ रही हैं। इसलिए आज हम आपको एक बहुत ही सामन्य तथा सरल घरेलु उपचार बताने जा रहे हैं। इस उपाय को प्रयोग करने से आप अपने शरीर में खून की कमी तथा वीर्य धन्तु या वीर्य की कमी बहुत ही सरलता से दूर कर सकेंगे।

Virya ki kami, khoon ki kami, blood badhane ke upay, Virya badhane ke upay

तो चलिए जानते हैं इस उपाय के बारे में:-

इस प्रयोग के लिए आवश्यक सामग्री:-

  • आंवला
  • गुड़ या गन्ने का रस
  • शहद

इस प्रयोग को करने की विधि:-

गन्ने का मौसम होने पर गन्ने के रस का तथा जब गन्ने का मौसम ना होने पर गुड का प्रयोग करें। इस तरह से यह प्रयोग हर ऋतू में किया जा सकता है,

१. वीर्य वृद्धि(वीर्य धातु को बढ़ाने) के लिए

प्रतिदिन भोजन के पश्चात 2-4 ग्राम आंवले के चूर्ण के साथ 15-20 ग्राम गुड़ का सेवन करने से पुरषों के वीर्य में वृद्धि होने लगती है। ऐसा नियमित रूप से करने से आपको जीवन में कभी भी पुनः इस प्रकार की समस्या नहीं होगी। साथ ही इस उपयोग को करने से रक्तपित्त(खूनी-पित्त), दर्द, थकान, मूत्रकृच्छ(पेशाब करते समय जलन अथवा कष्ट होना) तथा जलन आदि सभी परेशानियों से छुटकारा मिलता है।

२. रक्त(खून) की कमी तथा ताक़त में वृद्धि के लिए

  • यदि गन्ने का मौसम होने पर एक गिलास गन्ने के रस में 5 ग्राम आंवले का रस तथा 5 ग्राम शहद मिला कर पीएं। इससे आपके शरीर में रक्त की कमी दूर होती है।
  • यदि गन्ने का मौसम नहीं है तो रोज़ाना गुड का थोड़ी सौंफ के साथ सेवन अवश्य करें। गुड़ के सेवन से हमारी शरीर में आयरन की कमी पूरी होती है। यह उपाय महिलाओं के लिए भी काफी महत्वपूर्ण क्यों वह खून कमी से अधिक जूझती हैं।

विशेष:-

यदि आपको को पथरी(स्टोन) की परेशानी नहीं है, तो आप उपर बताए जूस में गेंहू के दाने के समान चूना मिला कर पीएं। इससे 10 दिनों के भीतर ही आपको शरीर का नव-निर्माण जैसा प्रभाव महसूस होगा। साथ ही आपका चेहरा टमाटर की भांति लाल हो जाएगा।

डॉक्टर से दवाई मंगवाने के लिए 9041 715 715 नंबर पर कॉल करें।

Releated Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *