क्रेटेनाईन डायलसिस अथवा किडनी ट्रांसप्लांट का कैसे करें उपचार ?

आज हम आपको एक ऐसे घरेलू उपाय के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसको करने से आप क्रेटेनाईन के डयलसिस तथा किडनी के ट्रांसप्लांट जैसी गंभीर स्थिति तक का उपचार कर सकते हैं। यदि आपका बी क्रेटेनाईन बढ़ा हुआ है अथवा डायलसिस चल रहा हो या किडनी ट्रांसप्लांट की नौबत आ चुकी हैं तो आप इसको ज़रूर आज़माएँ।

चलिए जानते हैं इस उपाय के बारे में !!

आवश्यक सामग्री:-

  • गोखरू कांटा – 250 ग्राम (यह आपको पंसारी से मिल जाएगा)
  • पानी – 4 लीटर

बनाने की विधि:-

  • सर्व प्रथम गोखरू कांटा लेकर इसे 4 लीटर पानी मे उबाल लें।
  • जब पानी उबाल कर 1 लीटर बच जाए तो इस पानी छानकर किसी बोतल मे रख लें तथा गोखरू कांटा फेंक दें।

सेवन की विधि:-

  • इस काढे को 100 ग्राम के करीब सुबह-शाम खाली पेट हल्का-सा गुनगुना कर के पीएँ।
  • शाम को खाली पेट का अर्थ है, दोपहर के भोजन के 5, 6 घंटे के बाद।
  • काढ़ा पीने के के बाद 1 घंटे तक कुछ न खाएं।
  • अपनी पहले की दवाई ख़ान-पान की दिनचर्या पूर्ववत ही रखें।
  • 15 दिन के अंदर यदि आपके अंदर अभूतपूर्व परिवर्तन हो जाए तो डॉक्टर की सलाह लेकर दवा बंद कर दीजिए।
  • जैसे-जैसे आपके अंदर सुधार होगा काढे की मात्रा कम कर सकते है या दो बार की बजाए एक बार भी कर सकते है।

सावधानियाँ तथा परहेज:-

  • यह काढ़ा सुबह शौच जाने के बाद पीना हैं।
  • काढ़े और नाश्ते के बीच में 1 से डेढ़ घंटे का अंतर रखना हैं।
  • नाश्ते में मैदे से बनी हुई कोई भी वास्तु जैसे बिस्कुट, नान खटाई, पाव, ब्रेड ईत्यादि का सेवन ना करें।
  • लंच में दाल करेला भिन्डी बैंगन टमाटर शिमला मिर्च पालक नहीं खाना।
  • फ़ास्ट फ़ूड जंक फ़ूड कोल्ड ड्रिंक तली हुई वस्तुएं तो ज़हर के समान हैं।
  • नमकीन चटपटी चाट वगैरह कुछ भी नहीं खाना।
  • ठंडा पानी ना पीएं।

कब तक आएगा आराम।

  • यदि आप इन सभी बातो का ध्यान रखेंगे तो 2 दिन के बाद आपका पेट साफ़ होगा तथा चार दिन बाद के बाद आपकी यूरिन की समस्या हल होनी शुरू हो जाएगी।
  • 10 दिन बाद शरीर में नई ऊर्जा का संचार होगा तथा 15 दिन में 30 से 50 % यूरिया क्रेटेनाईन कम होगा।
  • 3 से 4 महीने में नार्मल होंगे। इसलिए धैर्य बहुत आवश्यक है।

डॉक्टर से दवाई मंगवाने के लिए 9041 715 715 नंबर पर कॉल करें।

Releated Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *