जानिए कैसे करें घुटनों में दर्द की सरल चिकित्सा ?

घुटनो में दर्द होना काफी कष्टकारी होता है। वैसे तो आयु के बढ़ने के साथ-साथ घुटनों में दर्द होना शुरू हो जाता है। ऐसे में थोड़ी से सावधानी रखने से बढ़ती उम्र में भी इस दर्द से छुटकारा पाया जा सकता हैं। परन्तु घुटनों में दर्द की समस्या किसी चोट के कारण अथवा आर्थराइटिस के कारण भी हो सकती है। इस समस्या के प्रमुख लक्षण उठते-बैठते जोड़ो में कटक-कटक की आवाज़ आना, घुटनो में सूजन, घुटनो में दर्द इत्यादि हैं।

घुटनों के अंदरूनी या मध्य भाग में दर्द छोटे-मोटे कारणों अथवा आर्थराईटीज के कारण हो सकता है। परन्तु घुटनों के पीछे का दर्द उस जगह द्रव संचय होने से होता है। इसे बेकर्स सिस्ट कहा जाता है। बिना किसी चोंट या जख्म के अगर घुटनों में सूजन दिखे तो यह ओस्टियो आर्थराईटीज, गाऊट अथवा जोड़ों का संक्रमण की वजह से होता है। इसलिए आज हम आपको कुछ ऐसे घरेलू उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनको करने से आप घुटनों तथा जोड़ों आदि की समस्या से बढ़ी सरलतापूर्वक छुटकारा पा सकेंगे।

चलिए जानते हैं इस उपाय के बारे में !!

1. लहसुन और दही:-

  • बिना कुछ खाए प्रतिदिन प्रात: एक लहसन कली, दही के साथ दो महीने तक लेने से घुटनों के दर्द में चमत्कारिक लाभ होता है।

2. अखरोट की गिरी:-

  • लगातार 20 दिनों तक अखरोट की गिरी खाने से घुटनों का दर्द समाप्त होता है।

3. नारियल की गिरी:-

  • प्रतिदिन नारियल की गिरी का सेवन करें।
  • इससे घुटनों को ताकत आती है।

4. गर्म तेल:-

  • गरम तेल से हल्की मालिश करना घुटनों के दर्द में बेहद उपयोगी है।
  • एक बड़ा चम्मच सरसों के तेल में लहसुन की 2 कली पीसकर डाल दें।
  • इसे गर्म करें कि लहसुन भली प्रकार पक जाए।
  • फिर इस तेल को आच से उतारकर मामूली गर्म हालत में घुटनों या जोड़ों पर मालिश करें।
  • ऐसा करने से दर्द में तुरंत राहत मिल जाती है।
  • इस तेल में संधिवात की सूजन दूर करने के गुण हैं।
  • घुटनों की पीड़ा निवारण की यह असरदार चिकित्सा है।

5. प्याज:-

  • प्याज अपने सूजन विरोधी गुणों के कारण घुटनों की पीड़ा में लाभकारी हैं।
  • दरअसल प्याज में फायटोकेमीकल्स पाए जाते हैं जो हमारे इम्यून सिस्टम को ताकतवर बनाते हैं।
  • प्याज में पाया जाने वाला गंधक जोड़ों में दर्द पैदा करने वाले एन्जाईम्स की उत्पत्ति रोकता है।
  • एक ताजा रिसर्च में पाया गया है कि प्याज में मोरफीन की तरह के पीड़ा नाशक गुण होते हैं।

6. मैथी के बीज:-

  • मैथी के बीज संधिवात की पीड़ा निवारण करते हैं।
  • एक चम्मच मैथी बीज रात भर साफ़ पानी में गलने दें।
  • सुबह पानी निकाल दें और मैथी के बीज अच्छी तरह चबाकर खाएं।
  • शुरू में तो कुछ कड़वा लगेगा लेकिन बाद में कुछ मिठास प्रतीत होगी।
  • भारतीय चिकित्सा में मैथी बीज की गर्म तासीर मानी गयी है।
  • यह गुण जोड़ों के दर्द दूर करने में मदद करता है।

7. गाजर:-

  • गाजर में जोड़ों में दर्द को दूर करने के गुण मौजूद हैं।
  • गाजर को पीस लीजिए और इसमें थोड़ा सा नीम्बू का रस मिलाकर रोजाना खाना उचित है।
  • यह घुटनों के लिगामेंट्स का पोषण कर दर्द निवारण का काम करता है।

8. दाल-चीनी, जीरा, अदरक और हल्दी:-

  • घुटनों के लचीलेपन को बढाने के लिए दाल चीनी,जीरा,अदरक और हल्दी का उपयोग उत्तम फलकारी है।
  • इन पदार्थों में ऐसे तत्त्व पाए जाते हैं जो घुटनों की सूजन और दर्द का निवारण करते हैं।

9. केल्शियम:-

  • अस्थियों को मजबूत बनाए रखने के लिए केल्शियम का सेवन करना उपकारी है।
  • अगर पत्थरी की शिकायत नहीं है तो आप चूना गेंहू के दाने के बराबर दही में डाल कर नित्य खाए।
अथवा
  • अनार के रस में मिला कर या गाजर के रस में मिला कर खाए।
  • दूध ,दही,ब्रोकली में पर्याप्त केल्शियम होता है।

डॉक्टर से दवाई मंगवाने के लिए 94647 80812 नंबर पर कॉल करें।