इसको सूंघने से सिरदर्द और पीने से पेट के कीड़ों का जड़ से सफाया, जरूर पढ़े!!

निम्बू एक बहुत ही गुणकारी उपहार है, जो हमें प्रकृति माँ ने दिया है। नींबू की खट्टी खुशबू इसको खाने से पूर्व ही हमारे मुंह में पानी ला देती है। चाट हो, दाल हो या कोई भी अन्य व्यंजन, सभी इसके उपयगो से और भी स्वादिष्ट बन जाता है। यह फल खटास के साथ-साथ बहुत से गुणों से भरपूर है। परन्तु बहुत कम लोग यह जानते हैं कि इसके पत्ते भी अत्यंत उपयोगी होते हैं। इसलिए आज हम आपको नींबू के पत्तों के कुछ ऐसे रामबाण उपयोग बताने जा रहे हैं, जिनके बारे में आप शायद ही जानते होंगे।

चलिए जानते हैं इन उपयोगों के बारे में:-

1. नाक से खून आना

यदि नाक से रक्त बाह रहा हो, तो ताज़ा नींबू का रस निकाल कर नाक में पिचकारी मरने से नाक से खून बहना अथवा नकसीर फूटने की समस्या ठीक हो जाती है।

२. सिर दर्द या माईग्रेन

माईग्रेन अथवा सिर दर्द होने जैसी परेशानी में भी नॉबु बहुत लाभदायक होता है। माईग्रेन या सिर दर्द होने पर नींबू के पत्तों का रस निकाल लें तथा इसको सूंघे। जिन लोगों को हमेशा सिर दर्द की समस्या रहती है उन्हें भी इस उपाय से जल्द राहत मिलती है।

इसके इलावा आप माईग्रेन के लिए नीचे दिए उपाय भी कर सकते हैं:-

  • सिर के जिस हिस्से में दर्द हो नाक के उसी तरफ के नथुने में सात से आठ बूँद सरसों का तेल डालने या सूंघने से दर्द बिलकुल बंद हो जाता है। चार से पांच दिनों तक दिन में 2 से 3 बार इस प्रक्रिया को करने से ज़्यादातर दर्द हमेशा के लिए ख़त्म हो जाता है।
  • गाय के दूध से बने ताज़ा घी को दो से चार बूँद सुबह शाम रुई से नाक में टपकाएं या सूंघते रहें, ऐसा करने से माईग्रेन या आधे सिर की दर्द से पूरी तरह से राहत मिलती है। साथ ही यह नकसीर या नाक से खून बहने की समस्या भी जड़ से समाप्त हो जाती है। इस उपाय को 7 दिनों तक लगातार करें।

३. पेट के कीड़े

10 ग्राम नींबू के पत्तों का अर्क लें तथा इसमें 10 ग्राम शहद मिला कर मिश्रण तैयार कर लें। इस मिश्रण के सेवन से दस से पंद्रह दिनों में इसके सेवन से पेट में कीड़े मर जाते हैं, जिससे पेट में कीड़ों की समस्या में छुटकारा मिलता है। नींबू के बीजों के चूर्ण की फांकी भी पेट में कीड़ों को नष्ट करती है।

डॉक्टर से अपनी समस्या शेयर करें 9041 715 715 नंबर पर मुफ्त परामर्श करें।

Releated Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *