लीवर कैंसर का कैसे करें आयुर्वेदिक उपचार ?

लीवर कैंसर को हेपाटोसेलुलर कारसिनोमा(hepatocellular carcinoma) कहा जाता है। भारत में सर्वाधिक मौतें देने वाले रोगों में लीवर कैंसर का 5वां स्थान है। जानकारी के अनुसार 10 में से 2 लोग लीवर की बीमारी से ग्रसित हो रहे हैं। 40 वर्ष की आयु के बाद यदि जीवनशैली में स्वास्थ्य की चिंता करते हुए बदलाव नहीं किए जाते, तो लीवर के रोग 60 के बाद गंभीर हो जाते हैं। क्रॉनिक हेपाटाइटिस-सी तथा पीलिए में लीवर कैंसर होने का ख़तरा अधिक रहता है। शुरुआती अवस्था में ऐसे कोई खास लक्षण नहीं हैं, जिससे लीवर कैंसर की पहचान की जा सके।

लीवर कैंसर जांच में पता चल जाने के बाद अगर वो प्रारंभिक अवस्था में हैं तो घरेलू उपचार से उसे नियंत्रित किया जा सकता है। इसलिए आज हम आपको कुछ ऐसे उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनको करने से आप लिवर के कैंसर की समस्या का हल कर सकते हैं। इन उपायों को करने से आप अपने लिवर को सेहतमंद बना सकते हैं।

चलिए जानते हैं इन उपायों के बारे में !!

1. काली तुलसी:-

  • काली तुलसी के सेवन से लीवर कैंसर के वृद्धि रुक जाती है।
  • आयुर्वेद में लीवर कैंसर की चिकित्सा में काली तुलसी की विशेष चर्चा की गई है।
  • काली तुलसी के 30 पत्तों को दही में मथकर बनाए गए मठ्ठे के साथ पी जाएं।
  • सुबह-शाम इसे आजमाने से बेहतर परिणाम आते हैं।

2. हल्दी:-

  • लीवर के सेहत के लिए हल्दी का सेवन बहुत जरुरी है।
  • यह न सिर्फ लीवर की विषाक्त चीजों से सुरक्षा करती है बल्कि लीवर की नष्ट हुई कोशिकाओं का निर्माण भी करती है।

3. एवोकाडो:-

  • एवाकाडो में केमिकल कंपाउंड ग्लूटाथिन काफी मात्रा में पाया जाता है जो लीवर को सेहतमंद बनाती है और विषाक्त चीजों से सुरक्षा करती है।
  • एक मेडिकल रिसर्च में बताया गया है कि लगातार 30 दिनों तक एक एवाकाडो खाने से फैटी और बीमार लीवर ठीक हो जाती है।

4. ग्रीन टी:-

  • ग्रीन टी में एक खास एंटी ऑक्सीडेंट कैटेचिन्स पाया जाता है।
  • जो लीवर में फैट जमा नहीं होने देता है और इससे लीवर सही ढंग से काम करता रहता है।

5. मौसमी:-

  • मौसमी में काफी मात्रा में विटामिन सी पाया जाता है।
  • यह लीवर को साफ करता है।
  • इसमें लीवर को साफ करने वाले एंजाइम होते हैं जो लीवर को विषैले पदार्थ से सुरक्षा करते हैं।
  • इसमें एक खास केमिसल कंपाउड फ्लैवोनॉइड पाया जाता है, जो लीवर में फैट जमा नहीं होने देता है और इसे जलाता रहता है।

6. लहसुन:-

  • लहसुन में काफी मात्रा में सल्फर कंपाउड पाया जाता है जो लीवर एंजाइम को सक्रिय करता है।
  • साथ ही यह शरीर से विषैले रस और पदार्थ को निकालने का काम करता है।
  • यह लीवर को बचाने का काम करता है।
  • रोज सुबह खाली पेट पानी के साथ अगर लहसुन खाया जाए तो यह लीवर के लिए काफी सेहतमंद होता है।

7. डाइट या खान-पान की आदत:-

  • लीवर को स्वच्छ और शुद्ध पानी की जरुरत होती है।
  • पानी लीवर को साफ और सेहतमंद रखता है। पानी खूब पीएं।
  • रेड मीट और अल्कोहल लीवर का दुश्मन है इससे तौबा करें।
  • ज्यादा कैलोरी वाले भोजन करें, क्योंकि लीवर कैंसर में भूख कम लगती है।
  • इसलिए जब खाने का मन करे तो जिस भोजन में कैलोरी की मात्रा ज्यादा हो वही खाएं।
  • लीवर कैंसर के मरीजों की डाइट में फल, सब्जी के साथ लहसुन, मौसमी, ग्रीन टी, एवाकाडो, हल्दी, अखरोट, पपीता समेत ऐसे सभी फल और सब्जी शामिल हो जो लीवर को सेहतमंद बनाती है।

अन्य उपाय:-

  1. गाजर-टमाटर का सेवन नियमित करें।
  2. अंकुरित दाना मेथी का रस पीएं।
  3. अंकुरित चना सुबह को नाश्ते में खाएं।
  4. छाछ का नियमित सेवन करें।
  5. जौ का पानी पीएं।
  6. डाभ (नारियल) का पानी पीएं।
  7. एक बैंगन कच्चा खाने से लीवर की बीमारियां ठीक होती है।
  8. दो संतरे का रस खाली पेट लेने से लीवर सुरक्षित रहता है।

डॉक्टर से दवाई मंगवाने के लिए 94647 80812 नंबर पर कॉल करें।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *