गले के इन्फेक्शन को घर पर कैसे करें दूर ?


Ads
जैसे-जैसे मौसम में बदलाव आने लगता है, वैसे-वैसे ही कई प्रकार के मौसमी रोग हमें घेरने लगते हैं। इन्हीं में से एक है गले का संक्रमण। बदलते मौसम के साथ ही गले का इन्फेक्शन, ज़ुकाम, सर्दी ईत्यादि शुरू हो जाते हैं। इनके कारण गले में खराश, दर्द व जलन आदि की परेशानी होने लगता है। गले में इन्फेक्शन के कारण खाने-पीने तथा बोलने में भी समस्या होने लग जाती है। गले के संक्रमण का तुरन्त उपचार किया जाना चाहिए, अन्यथा इसके प्रभाव से तेज़ बुखार, खांसी ईत्यादि की समस्या भी पैदा हो सकती है। इसलिए आज हम आपको कुछ ऐसे उपायों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनके उपयगो से गले के संक्रमण से आराम पाया जा सकता है। वह भी बिना किसी हानिकारक प्रभाव के।

चलिए जानते हैं इन उपायों के बारे में !!

1.  अदरक की कैंडी:-

  •  गले में संक्रमण होने पर खाना पीना दुश्वार को जाता है। 
  • कई बार तो पानी निगलने में भी दिक्क्त होती है।
  • ऐसे में आप गले को आराम देने वाली अदरक की कैंडी चूसें। 

2. नमक के पानी के गरारे:-

  • नमक मिले पानी के गरारे गले की खराश में बहुत लाभदायक होते हैं।
  • इसके लिए आप गर्म पानी में थोड़ा सा नमक मिलाकर दिन में 3-4 बार इससे गरारे करें।
  • नमक की चाय भी गले की खराश से राहत दिलाएगी। 

3. हल्दी व अदरक वाला दूध:-

  • गले में आराम पाने के लिए आप हल्दी व अदरक का दूध पीएं।
  • इसके लिए आप दूध में अदरक का एक छोटा टुकड़ा व थोड़ी मात्रा में हल्दी को दूध में डालकर दूध को उबालें।
  • जब तक हल्दी पूरी तरह से पक ना जाए।
  • अब इस दूध को गर्म गर्म पीएं। 

4. हर्बल टी:-

  • गले के संक्रमण से आराम पाने के लिए आप हर्बल टी का उपयोग करें।
  • इसके लिए आप लॉन्ग, तुलसी व काली मिर्च को पानी में डालकर खूब उबालें।
  • फिर इसे चाय की तरह गर्म गर्म पीएं| इससे आपके गले को बहुत आराम मिलेगा। 

5. शहद वाली चाय:-

  • गले में दर्द व खिच-खिच होने पर शहद वाली चाय का इस्तेमाल करें।
  • शहद में एंटी बैक्टीरियल गुण पाए जाते है जो गले की खराश को कम करने में सहायक होते है।
  • जब भी इन्फेक्शन हो आप चाय में चीनी की बजाए शहद का इस्तेमाल करें। 

यदि यह जानकारी आपको अच्छी लगी तो इसे फेसबुक पर अपने दोस्तों संग शेयर अवश्य करें।

READ  श्वेत प्रदर, अधिक मासिक स्त्राव का कैसे करें उपचार ?

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *