रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ा कर अनेकों रोगों से बचता है यह रामबाण चूर्ण!!

आज हम आपको एक ऐसे घरेलू नुस्खे के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसको करके हम एक आयुर्वेदिक चूर्ण बनाएंगे। यह चमत्कारी चूर्ण हर प्रकार के रोग में असरकारक है। यदि कोई तंदरुस्त व्यक्ति इस चूर्ण का सेवन करता है, तो यह उसकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बड़ा कर उसे बीमार पड़ने नहीं देता। तथा यदि को बीमार व्यक्ति इसका सेवन करता है, तो वह  बीमारी से मुक्त हो जाता है। इस चूर्ण के रोज़ाना सेवन से बहुत से भयानक रोगों से छुटकारा मिलता है। यह हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बड़ा कर हमें स्वस्थ रखता है। इस आयुर्वेदिक चूर्ण का कोई भी हानिकारक प्रभाव नहीं है।

चलिए जानते हैं इस चूर्ण के बारे में !

आवश्यक सामग्री:-

  • नीम के पत्ते – 30 ग्राम
  • हल्दी- 30 ग्राम
  • गिलोय का पाउडर- 50 ग्राम
  • पुनर्नवा- 50 ग्राम

बनाने की विधि:-

  • ऊपर बताई गई सारी सामग्री को पीस कर एक साथ मिश्रित करके चूर्ण लें ।
  • अब इस चूर्ण को किस काँच के बर्तन अथवा बरनी में भरकर रख लें।
See also  आपकी छवि हैं आपके नाखून

सेवन की विधि:-

  • सुबह खाली पेट खाना खाने से पहले 1 चम्मच गुनगुने पानी के साथ सेवन करें।

इस चूर्ण के लाभ:-

इस चूर्ण के सेवन से फोडे-फुंसियाँ, चर्म रोग, बालों का झड़ना, सोरायसिस, पेट दर्द, बुखार, पीलिया, पाचन ना होना, पथरी, पेट की समस्याएं, कैंसर, ऐड्स , ऐसिडीटी, माईग्रेन, घुटने का दर्द, गैस, लिवर के रोग, जोडो का दर्द, डायबिटीज, बुखार, मलेरिया, बार बार बिमार पडना, सर्दी खांसी, गले के रोग, टाईफाईड, कील-मुहांसे, खुजली, पायरिया, दाद-खाज, मसूड़ों के रोग, थाईराईड, मस्तिष्क सबंधी रोग, आदि प्रकार के रोगों मे बेहद कारगर है।

डॉक्टर से दवाई मंगवाने के लिए 9041-715-715 नंबर पर कॉल करें।